आइये जानते है टर्म इंश्योरेंस क्यों महंगा हो रहा है?

महामारी आने के बाद से भारत में मृत्यु दर में अचानक वृद्धि के कारण टर्म इंश्योरेंस कंपनियां दबाव महसूस कर रही हैं।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार भारत में जीवन बीमा कंपनियों को पिछले फाइनेंसियल वर्ष की तुलना में फाइनेंसियल वर्ष 2021 में चार से पांच गुना COVID से संबंधित डेथ के क्लेम्स प्राप्त हुए हैं।

मौतों की बढ़ी हुई संख्या क्लेम्स की संख्या के सीधे आनुपातिक है इसलिए जीवन बीमा कंपनियों द्वारा भुगतान में भारी तेजी ने उन्हें अचानक नुकसान में डाल दिया है।

इसलिए उन नुकसानों को संतुलित करने के लिए टर्म इंश्योरेंस की कीमतों का प्रीमियम उच्च स्तर पर पंहुचा दिया जाता है।

भारत में COVID-19 के कहर के बाद से टर्म इंश्योरेंस प्रीमियम में प्रत्येक दौर में काफी राशि की तीन गुना वृद्धि देखी गई है।

जून 2020 में टर्म इंश्योरेंस प्लान के प्रीमियम में 20-25% की भारी वृद्धि हुई, फिर मार्च 2021 में न्यूनतम 4-5% की वृद्धि हुई और अब दिसंबर 2021 में प्रीमियम की कीमतों में लगातार 30% की वृद्धि हुई है।

टर्म इंश्योरेंस के बारे में और पढने के लिए क्लिक करे?

start reading

यदि आपको यह वेब स्टोरी पसंद आई है तो शेयर करे?