जीवन बीमा लेते समय इन 9 बातों का ध्यान जरुर रखे?

कई लोग अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी की प्रीमियम बचाने के चक्कर में अपनी धूर्मपान की आदत तथा पुरानी बीमारियों के बारे में बीमा लेते समय खुलकर उल्लेख नहीं करते है।

ऐसे में यदि बीमाधारक को मृत्यु होती है। और वह मृत्यु धूम्रपान या लंबी बीमारी के कारण होती है तो बीमा कंपनी इस प्रकार के दावे को खारिज कर देती है।

किसी भी प्रकार की बीमा कंपनी द्वारा दी गई इंश्योरेंस पॉलिसी में गैर कानूनी और आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने पर हुए नुकसान को बीमा कंपनी कवर नहीं करती हैं।

यदि कोई बीमाधारक आत्महत्या करता है तो उसे जीवन बीमा में कवर नहीं किया जाता है। आत्महत्या के अलावा किसी भी प्रकार की जानलेवा गतिविधियों में शामिल होने पर हुई मृत्यु को कवर नहीं किया जाता है।

कई इंश्योरेंस करने वाली कंपनियां महिलाओं के गर्भावस्था के दौरान बच्चे को जन्म देते समय मृत्यु हो जाती है, तो उस मृत्यु को कवर नहीं किया जाता हैं।

आप कोई लाइफ इंश्योरेंस जितना जल्दी खरीदोगे, इससे आपको काफी फायदा मिलता है। आप जितनी लेट पॉलिसी लेंगे आपको उतनी ही महंगी मिलेगी। हर साल बीतने के साथ साथ लाइफ इंश्योरेंस का प्रीमियम भी बढ़ता रहता है।

यदि आप कोई लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद रहे हो तो यह जानकारी अपने परिवार को जरूर देनी चाहिए। ताकि आपके परिवार को आर्थिक सहायता मिल सके।

जीवन बीमा पॉलिसी खरीदने का उद्देश्य रिस्क से सुरक्षा पाना होता है। तथा व्यक्ति निवेश अपनी निजी संपति बढ़ाने में करता है। लेकिन हमें लाइफ इंश्योरेंस और इन्वेसमेंट अलग अलग रखनी चाहिए।

ऐसी ही और वेब स्टोरीज देखने के लिए क्लिक करें?

start reading