इंश्योरेंस में सम एश्योर्ड क्या होता है? | Sum Assured in Hindi

बीमा योजना में ऐसे शब्द होते हैं, जो आसान लग सकते हैं लेकिन उनका अर्थ कठिन हो सकते हैं। और बाद में किसी भी समस्या से बचने के लिए इन शर्तों के बारे में सही से समझना आवश्यक है।

आपने इंश्योरेंस में Sum Assured और Sum Insured के बारे में जरुर सुना होगा। यदि आप नहीं जानते की सम एश्योर्ड क्या होता है? तो आइये विस्तार से जानते है की सम एश्योर्ड क्या है? और इसे आपके लिए जानना क्यों जरुरी है?

सम एश्योर्ड क्या है? (what is sum assured in hindi)

सम एश्योर्ड बीमाधारक और बीमा कंपनी के बीच पहले से तय एक निश्चित राशि होती है। इस राशि को बीमा लेते समय ही तय किया जाता है। यह राशि पहले से एक गारंटीशुदा राशि होती है, जो बीमाधारक या उसके लाभार्थी को मिलती है।

यह आमतोर पर जीवन बीमा से जुड़ा हुआ है। जीवन बीमा में बीमा करने वाली कंपनी, बीमा अवधि के दौरान बीमाधारक की मृत्यु होने की स्थिति में बीमाधारक के लाभार्थी या नॉमिनी को पहले से निर्धारित राशि का भुगतान करने की गारंटी देता है।

सम एश्योर्ड बीमा अवधि तक अपरिवर्तित रहता है। किसी बीमा के लिए आपके द्वारा भुगतान की जाने वाली प्रीमियम का निर्धारण sum assured के अनुसार ही किया जाता है। जब बीमा कंपनी आपको या आपके लाभार्थी को बीमा राशि का भुगतान करने पर यह बीमा समाप्त हो जाता है।

Sum assured meaning in Hindi:- बीमाकृत्त राशि/बीमित राशि/सुनिश्चित राशि

basic sum assured meaning in hindi:- मूल बीमा राशि

Sum assured की गणना कैसे करें?

सम एश्योर्ड की गणना करने के कई अलग अलग तरीके होते है। कई लोगों को अपने परिवार के भविष्य की जरूरतों के लिए एक सही बीमा राशि का चयन करते समय कठिनाई आती है।

एक सही sum assured चुनने के लिए मानव जीवन मूल्य या HLV एक लोकप्रिय तरीका है। यह तरीका आपके वर्तमान और भविष्य कमाई, वर्तमान और भविष्य के खर्चों, तथा आपकी उम्र के आधार पर आपके सम एश्योर्ड की गणना करता है।

यह आपको मौजूदा इंफ्लेशन के आधार पर आपके कैपिटल वैल्यू (capitalized value) की गणना करने में मदद करता है। अब आपको अपने लिए HLV जानने और सही बीमा राशि का चुनाव करने के लिए ह्यूमन लाइफ वैल्यू के लिए ऑनलाइन कैलकुलेटर ढूंढ सकते हो।

सही Sum Assured का चुनाव कैसे करे

आपकी उम्र आपका sum assured निर्धारित करती है। यदि आप युवा है, तो आप उच्च राशि का विकल्प चुन सकते हो। क्योंकि आपका जीवन आगे लंबा है। अपने लिए सही Sum Assured चुनने के लिए ये बाते जरूर ध्यान रखे:

  • आपकी बीमा राशि आपके ऊपर निर्भर जैसे आपके माता पिता, बच्चे, जीवनसाथी आदि को फाइनेंशियल रूप से सुरक्षित रखने के पर्याप्त हो।
  • आप ऐसी बीमा राशि का चयन करें जो आपके बच्चो की शिक्षा और शादी, आपके परिवार के खर्चों की सभी वित्तीय जरूरतों को पूरा कर सके।
  • आपको ऐसी बीमा राशि का चुनाव करना चाहिए जो आपकी मृत्यु के पश्चात आपकी देनदारियों का भुगतान करने के लिए पर्याप्त हो।
  • आपकी आयु आपकी बीमा राशि निर्धारित करती है। इसलिए यदि आप युवा है तो अपने लिए उच्च बीमा राशि का चुनाव करें।

Sum Assured को निर्धारित करने वाले कारक

बीमा में आपका सम एश्योर्ड निर्धारित करने वाले कारक निम्नलिखित है:

  1. उम्र: आपकी उम्र आपका सम एश्योर्ड निर्धारित करती है। यदि आप युवा है तो उच्च बीमा राशि का चयन करें।
  2. आय (Income): आपकी इनकम आपके जीवन स्तर को निर्धारित करती है। इसलिए आपके sum assured की गणना करते समय जरूरी है। आप आपका सम एश्योर्ड आपकी वार्षिक आय से 10 गुना रख सकते हो।
  3. जीवनशैली या आदतें: आपके जीवनशैली को आदतें जैसे धूम्रपान, शराब का सेवन आदि। इस प्रकार के आदतें आपके सम एश्योर्ड और बीमा प्रीमियम को निर्धारित करती है। इन आदतों के चलते आपकी प्रीमियम बढ़ भी सकती है। क्योंकि नशा करने वालों का जीवनकाल कम हो सकता है।

Sum Assured से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

  • Sum Assured आपकी इनकम पर निर्भर करता है। तथा कोई भी बीमाधारक अपनी इनकम से 10 गुना सम एश्योर्ड ले सकता है।
  • यदि किसी कारणवश बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है तो बीमाधारक के लाभार्थी या नॉमिनी को बीमा कंपनी द्वारा जो राशि दी जाती है, वही Sum Assured राशि होती है।
  • सम एश्योर्ड के आधार पर ही आपके बीमा प्रीमियम का निर्धारण होता है।
  • सम एश्योर्ड वही राशि है जिसे कवर, बीमित राशि, या कवरेज के रूप में जाना जाता है। यह वही राशि होती है जिसे बीमाधारक को परिपक्वता या मृत्यु की स्थिति में दी जाती हैं।
  • बीमा परिपक्व होने पर जो बोनस मिलता है। उसे बीमा राशि में Sum Assured के हिसाब से जोड़ा जाता है।

शेयर करें:

2 thoughts on “इंश्योरेंस में सम एश्योर्ड क्या होता है? | Sum Assured in Hindi”

Leave a Comment